HHFC MEDIA

News and Blog

बाल मजदूरी एक अभिशाप

Published-June 12, 2021, 3:17 p.m.



Written By:Shreya_Verma
Card image cap
Shreya_Verma
Profile

आज हमारे देश में किसी बच्चे को कठिन कार्य करते हुए देखना आम बात हो गई है। जिसके कारण दिन-प्रतिदिन हमारे देश में बाल मजदूरी बढ़ता जा रहा है और बच्चों का बचपन खराब हो रहा है। बाल मजदूरी हमारे देश और समाज के लिए बहुत ही गम्भीर विषय है. समय आ गया है कि हम इस विषय पर बात करने के साथ-साथ अपनी नैतिक जिम्मेदारियों को भी समझे । बाल मजदूरी से बच्चों का भविष्य तो खराब होता ही है, साथ में देश में गरीबी फैलती है और देश के विकास में बाधाएँ आती हैं।
जो बच्चे 14 वर्ष से कम आयु के होते हैं, उनसे उनका बचपन, खेल-कूद, शिक्षा का अधिकार छीनकर, उन्हें काम में लगाकर शारीरिक, मानसिक और सामाजिक रूप से प्रताड़ित कर, कम रुपयों में काम करा कर शोषण करके, उनके बचपन को श्रमिक के रूप में बदल देना ही बाल श्रम कहलाता है। यह श्रम पूर्ण रूप से गैर कानूनी है।

गरीब परिवार के लोग अपनी आजीविका चलाने में असमर्थ होते हैं, इसलिए वे अपने बच्चों को बाल मज़दूरी के लिए भेजते है और बाल मज़दूरी को बड़े लोगों और माफियाओं ने व्यापार बना लिया है।
बाल मज़दूरी का एक कारण भ्रष्टाचार भी है, तभी तो बड़े-बड़े होटलों, ढाबों और कारखानों पर उनके मालिक बिना किसी भय के बच्चों को मज़दूरी पर रख देते हैं, उन्हें पता होता है कि अगर पकड़े भी गए तो वे घूस देकर छूट जाएँगे, इसीलिए भ्रष्टाचार बाल मज़दूरी में एक अहम भूमिका निभाता है।
भारत सरकार ने बाल मज़दूरी को रोकने के लिए कानून तो बनाए हैं, लेकिन उन कानूनों में काफी खामियाँ हैं, इसका फायदा उठाकर लोग बाल श्रम को अंजाम देते है और कई बार तो कानून का नियम पूर्वक पालन भी नहीं किया जाता है।

बाल मज़दूरी करने वाले बच्चे अक्सर कुपोषण का शिकार हो जाते हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार बाल मज़दूरी करने वाले बच्चों में से लगभग 40% बच्चों का शारीरिक शोषण किया जाता है। यह बहुत ही गंभीर बात है लेकिन इस पर कभी भी ध्यान नहीं दिया जाता।
बाल श्रम को रोकने के लिए मजबूत और कड़े कानून बनाने चाहिए। जिससे कोई भी बाल मज़दूरी करवाने से डरे। अगर आपके सामने कोई भी बाल श्रम का मामला आए तो सबसे पहले नज़दीकी पुलिस स्टेशन में खबर करे. बालश्रम को खत्म करना केवल सरकार का ही कर्तव्य नहीं है, हमारा भी कर्तव्य है।
बच्चे ही हमारे देश का भविष्य है अगर उन्हीं का बचपन अंधेरे और बाल श्रम में बीतेगा तो हम एक समृद्ध भारत की कल्पना कैसे कर सकते है। अगर हमें नए भारत का निर्माण करना है तो बाल मज़दूरी को जड़ से उखाड़ फेंकना होगा और यह सिर्फ हमारे और सरकार के सहयोग से ही संभव है।

Last Edit - June 12, 2021, 3:17 p.m.

Saket

Shreya_Verma

[email protected]

HHFC MEDIA


E-mail - [email protected]

HHFC MEDIA is an open platform to express your views and idea in a more descriptive and independent way! Tell your stories and publish your work as your own webpage.

Other Platforms:
HHFC INDIA
Rakta Raisers
© 2015-2020 HHFC Trust
Terms & Rules
HAVE ANY QUESTION?
[email protected]